मध्य प्रदेश पंचायती राज व्यवस्था ( Panchayat and Rural Development ) – Most Important Notes For MP Patwari Exam

Panchayat and Rural Development

नमस्कार दोस्तो , आज की पोस्ट मध्यप्रदेश पटवारी परीक्षा को ध्यान में रखकर बनाई गई है ! क्योंकि पटवारी परीक्षा में पंचायती राज का एक स्पेशल टापिक जोडा गया है ,जिससे 15 से 20 प्रश्न आनें की संभाबना है ! तो दोस्तो इसे अच्छे से पढिये और एक एक Facts को रट डालिये बस ! 

इस पोस्ट में मध्यप्रदेश की पंचायती राज व्यवस्था के बारें जानकारी उपलब्ध कराई गई है !यह पंचायती राज से संबंधित दूसरी पोस्ट है , इससे पहलें बाली पोस्ट में 73 बां सबिधान संशोधन व भारत की पंचायती राज व्यवस्था के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई गई है ! अगर आपने वो पोस्ट नहीं पढी है तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करके आप उसे पढ लीजिये ! 

 




म.प्र में 73 वे संविधान संशोधन (1992) को लागू करने के लिए 30 दिसम्बर 1993 को म.प्र पंचायती राज अधिनियम 1993 रखा गया , जिसे 25 जनवरी 1994 को पारित किया गया और 20 अगस्त, 1994 को लागू किया गया ! 

इस अधिनियम के अनुसार पंचायती राज व्यवस्था के तीन स्तर है। सभी तीनों स्तरों का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है ! जिनका विवरण निम्न प्रकार है –

ग्राम पंचायत ( Gram Panchayat )

  • इसकी सदस्य संख्या न्यूनतम 10 व अधिकतम 20 हो सकती है !
  • 1000 से अधिक आबादी वाले गाॅव में एक ग्राम पंचायत गठित की जायेगी ।
  • वर्तमान म.प्र. में ग्राम पंचायतो की संख्या 23,012 है।
  • मुखिया सरपंच होता है।
  • सरपंच , पंच ओर उपसरपंच और ग्राम के सदस्य मतदाता होते है।
  • पंचायत ,सचिव , पंचायत द्वारा नियुक्त शासकीय कर्मचारी होता है।
  • सरपंच, उपसरपंच को अविश्वास प्रस्ताव द्वारा हटाया जा सकता है।
  • इसका मुखिया सरपंच व सदस्य पंच प्रत्यक्ष रूप से जनता द्वारा व उप-सरपंच अप्रत्यक्ष रूप से पंचों द्वारा निर्वाचित होते है।   
  • ग्राम पंचायते अपने गाॅंव की सफाई, पेयजल व्यवस्थ, प्रकाष व्यवस्था, आॅंगनवाड़ियो का संचालन, ग्रामीण विकास कार्यक्रमो की निगरानी आदि का कार्य करती है।
  • Right To Recall का अधिकार जनता को दिया जाता है। 
  • Right To Recall में सरपंच निर्वाचित होने के 2 बर्ष के बाद 2/3 बहुमत द्वारा उसे हटाया जा सकता है ! इसका प्रथम प्रयोग शहडोल जिले की अनुपपूर तहसील का पल्लविका पटेल को इसी अधिकार द्वारा जनता द्वारा हटाया गया था। म.प्र. पहला राज्य है जिनसे स्थानीय निकायो में Right To Recall का प्रावधान किया है। 
  • वर्तमान में पंचायतो की सबसे बड़ी समस्या वित की कमी है।
  • Panchayat and Rural Development

जनपद पंचायत ( Janpad Panchayat )

  • इसकी सदस्य संख्या न्यूनतम 10 व अधिकतम 25 हो सकती है !
  • वर्तमान मध्यप्रदेश में 313 जनपद पंचायतें हैं !
  • यह मध्य स्तर है , जिसका गठन विकासखण्ड पर होता है।
  • 5 हजार से अधिक आबादी वाले विकासखण्ड में एक जनपद पंचायत का गठन किया जाता है।
  • सदस्यो का चुनाव प्रत्यक्ष रूप से जनता द्वारा जबकि अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से सदस्यो द्वारा किया जाता है।
  • इसके अतिरिक्त इसके पदेन सदस्य के रूप में, सांसद , सरपंच ओैर विधायक होते हे ! 
  • सहकारी बैकों का अध्यक्ष सहयोजित सदस्य होता है।
  • जनपद पंचायत का मुख्य प्रशासकीय अधिकारी CEO होता जो राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित अधिकारी होता है ! 
  • Panchayat and Rural Development




जिला पंचायत ( Jila Panchayat )

  • इसकी सदस्य संख्या न्यूनतम 10 व अधिकतम 35 हो सकती है !
  • वर्तमान मध्यप्रदेश में 51 जिला पंचायतें हैं !
  • 50 हजार या अधिक आबादी वाले क्षेत्र में एक जिला पंचायत का गठन किया जाता है !
  • सदस्य जनता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से व अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का निर्वाचन सदस्यो द्वारा अप्रत्क्ष रूप से किया जाता है।
  • इसके पदेन सदस्य के रूप मे जनदप पंचायत के अध्यक्ष , विधायक व सांसद होते है।
  • कलेक्टर भी पदेन सदस्य होता है।
  • अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का निर्वाचन सदस्यो द्वारा अप्रत्क्ष रूप से किया जाता है।
  • कार्यकारी अधिकारी एक IAS होता है। जो राज्य सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है।
  • Panchayat and Rural Development

पंचायती राज व्यवस्था से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

( Facts Related to MP Rural Development and Panchayat Raj )

  • 26 जनवरी 2001 से ग्राम स्वराज योजना लागू की गई !
  • चुनाव संबंधी कार्यों के लिये 1 फरवरी 1994 को मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग का गठन किया गया ! जो इन तीनों स्तरों के चुनाव का कार्य करवाता है ! मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग के प्रथम अध्यक्ष M. B. लौहानी थे ! 
  • मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग के वर्तमान अध्यक्ष आर. परशुराम हैं ! 
  • मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग के वर्तमान सचिव सुनीता त्रिपाठी हैं ! 
  • पंचायतों को राज्य शासन से वित्त उपलब्ध करानें हेतु मध्य – प्रदेश वित्त आयोग का गठन प्रत्येक 5 बर्ष के अंतराल पर किया जाता है !
  • मध्यप्रदेश सरकार के वित्त विभाग ने पांचवें राज्य वित्त आयोग का गठन 2017 में किया है। आयोग के अध्यक्ष के तौर पर वरिष्ठ भाजपा नेता और पूर्व गृहमंत्री हिम्मत कोठारी को अध्यक्ष और मिलिंद वाईकर को सदस्य सचिव की भूमिका दी गई है।
  • मध्य प्रदेश पंचायती राज अधिनियम के अंतर्गत मध्य प्रदेश में प्रथम चुनाब मार्च – अप्रैल 1994 में हुऐ ! 
  • तीनों स्तरों पर SC , ST , OBC व महिलाओं के लिये आरक्षण की भी व्यवस्था की गई है ! 
  • 73 वाँ संविधान संशोधन लागू करने वाला म.प्र. प्रथम राज्य  था।
  • 1907 में सर्वप्रथम दतिया में नगरपालिका का गठन किया गया था ! 
  • 1929 में इंदौर , ग्वालियर , एवं नरसिंहगढ में पंचायतेएं स्थापित की गई ! 
  • 25 जनबरी को प्रतिदिन मतदाता दिबस मनाया जाता है ! 
  • पंचायती राज में 29 बिषय सम्मलित हैं ! 
  • Panchayat and Rural Development

तो दोस्तो आप सभी के लिये आगामी पटवारी परीक्षा के लिये नितिन गुप्ता की तरफ से All The Best ! जल्द ही में ग्रामीण अर्थव्यवस्था के नोट्स आप सभी से लिये उपलब्ध कराऊंगा तो Regular आप हमारी बेबसाइट बिजिट करते रहिये ! 

इसके अलाबा पटवारी परीक्षा में कंप्यूटर भी आने बाला है तो उसके लिये हमारी यह पोस्ट अवश्य पढें जिसमें से 5 – 6 Question आनें की संभावना है ! 




Related GK Tricks –

Note – अब आप हमारी Android App को यहां पर Click करके Google Play Store से Download कर सकते है

दोस्तो कोचिंग संस्थान के बिना अपने दम पर Self Studies करें और महत्वपूर्ण पुस्तको का अध्ययन करें , हम आपको Civil Services के लिये महत्वपूर्ण पुस्तकों की सुची उपलब्ध करा रहे है –



TAG – TAG – Panchayati Raj , Panchayat and Rural Development , Rural Development and Panchayat Raj Department , 73 Samvidhan Sanshodhan , Gramin Arthvyavastha and Panchayati Raj PDF in Hindi , ग्रामीण अर्थव्यवस्था एंड पंचायती राज , मध्य प्रदेश में पंचायती राज व्यवस्था PDF , पंचायती राज व्यवस्था MP , madhya pradesh patwari ki bharti , mp patwari question paper , Madhya Pradesh Panchayat and Rural Development , ग्रामीण अर्थव्यवस्था एंड पंचायती राज PDF , MP Patwatri Study Material , Gramin Arthvyavastha Notes in Hindi

Author: Nitin Gupta

GK Trick by Nitin Gupta पर आपका स्वागत है !! अपने बारे में लिखना सबसे मुश्किल काम है ! में इस विश्व के जीवन मंच पर एक अदना सा और संवेदनशीलकिरदार हूँ जो अपनी भूमिका न्यायपूर्वक और मन लगाकर निभाने का प्रयत्न कर रहा हूं !! आप मुझे GKTrickbyNitinGupta का Founder कह सकते है !
मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने बाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है !! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कट अभिलाषा है !!

9 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *