Current Affairs MPPSC

Most Important Madhya Pradesh Current Affairs 2019 – 20 in Hindi

Most Important Madhya Pradesh Current Affairs 2019
Written by Nitin Gupta

Most Important Madhya Pradesh Current Affairs

नमस्कार दोस्तो , इस पोस्ट में हम आपको मध्य प्रदेश करेंट अफ़ेयर्स 2019 – 2020 ( Madhya Pradesh Current Affairs 2019 – 2020 ) के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको आने बाले MPPSC 2019 – 2020 व व्यापम के सभी Exams के लिये महत्वपूर्ण होंगे ! इसकी  PDF भी आपको जल्द ही उपलब्ध कराई जायेगी तो आपसे निवेदन है कि हमारी बेबसाइट को Regular Visit करते रहियेगा !.

इसके अलाबा इन सभी PDF को हम अपने Telegram Group में भी आपको Available कराते हैं , जहां से आप इन्हें Download कर सकते हैं ! आप नीचे दी गई Link की सहायता से हमारे Telegram Group को Join कर सकते हैं !

मध्‍यप्रदेश 100% घर-घर से कचरा संग्रहण करने वाला देश का पहला राज्‍य बन गया है।

  • मध्‍यप्रदेश देश का पहला राज्‍य बन गया है, जहां निकायों में घर-घर कचरा संग्रहण किया जा रहा है।
  • यह घर-घर कचरा संग्रहण भारत सरकार द्वारा स्‍वच्‍छ भारत अभियान के अंतर्गत संचालित स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण अभियान का हिस्‍सा है।
  • शहरी विकास और आवास मंत्रालय इस घर-घर अभियान के लिए नोडल एजेंसी है।

मध्‍यप्रदेश का पहला तितली पार्क रायसेन में खोला गया है।

  • रायसेन जिले के गोपालपुर में मध्‍यप्रदेश का पहला तितली उद्यान जनता के लिए खोला गया।
  • इसमें तितलियों की 65 प्रजातियां और लगभग 137 पौधों की किस्‍में हैं।

”पॉल्‍यूशन मीटर” ऐप

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने प्रदूषण के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए ”पॉल्‍यूशन मीटर” ऐप को लांच किया है।
  • यह मध्‍यप्रदेश के पश्चिमी भाग में प्रदूषण के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए एक मोबाइल एप्लिकेशन है।
  • पॉल्‍यूशन मीटर ऐप को एक निजी फर्म और मध्‍यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा संयुक्‍त रूप से विकसित किया गया है।
  • पॉल्‍यूशन मीटर ऐप के माध्‍यम से उपयोगकर्ता अपने क्षेत्रों में वायु, जल और ध्‍वनि प्रदूषण की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

मुख्‍यमंत्री महिला कोष योजना : अकेली महिलाओं के लिए पेंशन

  • 8 मार्च को अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर, मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने ”मुख्‍यमंत्री महिला कोष” योजना की घोषणा की है जो 50 साल से अधिक उम्र की अविवाहित महिलाओं को पेंशन प्रदान करेगी।

कड़कनाथ मुर्गे : भौगोलिक संकेत टैग मिला है।

  • मध्‍यप्रदेश को कड़कनाथ के लिए भौगिोलिक संकेत (जीआई) टैग मिल गया है।
  • कड़कनाथ मुर्गे का प्रोटीन युक्‍त काला मांस मुर्गे की अन्‍य किस्‍मों की तुलना में बहुत अधिक कीमत पर बेचा जाता है।
  • यह मध्‍यप्रदेश के झाबुआ, अलीराजपुर और धार जिले के कुछ हिस्‍सों का मूल रूप से मिलता है।
  • चंदेरी धागा, इंदौर के चमड़े के खिलौनें और रतलामी सेव मध्‍यप्रदेश को हाल ही में मिले जीआई टैग हैं।
  • भौगोलिक टैग (GI) टैग :- जीआई टैग एक नाम अथवा संकेत है जो कुछ उत्‍पादों को दिया जाता है जो एक विशिष्‍ट भौगोलिक स्‍थान या उत्‍पत्ति के अनुरूप होते हैं।

पशु स्‍वास्‍थ्‍य योजना के लिए मध्‍यप्रदेश सरकार ने भारत फाइनेंशियल के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए।

  • मध्‍यप्रदेश पशुपालन विभाग ने भारत फाइनेंशियल के एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किया है।
  • पशु धन संजीवनी – 1962 को शुरू करने के लिए भारत समावेश लिमिटेड (BFIL)
  • यह एक पशु स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रम हैं।
  • ”पशु धन संजीवनी – 1962” भारत में किसी भी राज्‍य सरकार द्वारा अपनी तरह की पहली पहल है।
  • उन्‍हें बस टोल-फ्री हेल्‍पलाइन नंबर 1962 डायल करना होगा।
  • सेवा वितरण प्रक्रिया की निगरानी भारत संजीवनी ”सॉफ्टवेयर” और ”एक मोबाइल ऐप” के माध्‍यम से की जाएगी।

मध्‍यप्रदेश के बांद्राभान में 5वां नदी महोत्‍सव

  • केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मध्‍यप्रदेश के होशंगाबाद में बांद्राभान में 5वें नदी महोत्‍वस का उद्घाटन किया।
  • नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए विभिन्‍न सत्रों के साथ दो दिवसीय महोत्‍सव आयोजित किया गया।

राष्‍ट्रीय ग्राम स्‍वराज अभियान

  • राष्‍ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री ने मध्‍यप्रदेश के नरेन्‍द्र, मंडला जिले (रामनगर) से राष्‍ट्रीय ग्राम स्‍वराज अभियान की शुरूआत की।
  • राष्‍ट्रीय ग्राम स्‍वराज अभियान (आरजीएसए) का उद्देश्‍य पंचायती राज संस्‍थानों को उपलब्‍ध संसाधनों के अधिकतम उपयोग पर ध्‍यान देते हुए समावेशी स्‍थानीय प्रशासन के माध्‍यम से सतत विकास लक्ष्‍यों (एसडीजी) को प्राप्‍त करने के लिए शासन क्षमताओं को विकसित करने में मदद करना है।
  • इसमें आदिवासी पंचायतों के तहत विकास क्षेत्रों के लिए 2 लाख करोड़ रूपये का उपयोग गया गया है।

एशिया-प्रशांत 8वां क्षेत्रीय 3R मंच

  • एशिया-प्रशांत 8वां क्षेत्रीय 3R मंच का आयोजन इंदौर, मध्‍यप्रदेश में किया गया।
  • इस कार्यक्रम का विषय ‘एशिया-प्रशांत समुदायों के लिए 21वीं सदी का लक्ष्‍य’ – 3R और संसाधन दक्षता के माध्‍यम से स्‍वच्‍छ जल, स्‍वच्‍छ भूमि और स्‍वच्‍छ वायु प्राप्‍त करना था।
  • एशिया-प्रशांत क्षेत्रीय 3R मंच : इसे वर्ष 2009 में स्‍थापित किया गया था और इसका प्रस्‍ताव जापान ने दिया था।

पिंक इलेक्ट्रिसिटी जोन

  • अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) की पूर्व संध्‍या पर मध्‍यप्रदेश पश्चिम विद्युत वितरण कंपनी (MPWPDC) ने एक ”पिंक इलेक्ट्रिसिटी जोन” शुरू किया है, जिसका प्रबंधन महिला कर्मचारियों द्वारा किया जाएगा।
  • इस जोन में 25 महिला कर्मचारी शामिल है।
  • वे अरण्‍य नगर में 13000 बिजली कनेक्‍शनों के ऊर्जा रखरखाव कार्य का प्रबंधन करेंगे।

ई-वे बिल प्रणाली का शुरूआत

  • माल के इंट्रा-राज्‍य आंदोलन के लिए ई-वे बिल प्रणाली अरूणाचल प्रदेश, मध्‍यप्रदेश, मेघालय, सिक्किम और पुदुचेरी में 25 अप्रैल 2018 से लागू की गई है।
  • वस्‍तुओं के अंतर-राज्‍य आंदोलन के लिए ई-वे बिल प्रणाली 1 अप्रैल 2018 को शुरू की गई थी।

मध्‍यप्रदेश में ग्रामीण सड़क नेटवर्क को बेहतर बनाने के लिए केंद्र सरकार और विश्‍व बैंक ने समझौते पर हस्‍ताक्षर किए।

  • भारत सरकार और मध्‍यप्रदेश सरकार तथा विश्‍व बैंक ने मध्‍यप्रदेश ग्रामीण कनेक्टिविटी परियोजना के लिए $210 मिलियन के ऋण समझौते पर हस्‍ताक्षर किए।
  • यह परियोजना बजरी सतह वाली ग्रामीण सड़कों को स्‍थायित्‍व, लचीलापन और सुरक्षा में बढ़ोतरी करेगा और मध्‍य्रपदेश को अपने ग्रामीण सड़क नेटवर्क के प्रबंध करने की क्षमता में सुधार लाएगा।
  • इसमें मध्‍यप्रदेश में मुख्‍यमंत्री ग्राम सड़क योजना (CMGSY) के अंतर्गत आने वाली 10,150 किमी की ग्रामीण सड़कें शामिल होगी।
  • इसमें से 10000 किमी को मौजूदा बजरी से बिटुमिनस सतह सड़कों से बेहतर बनाया जाएगा।
  • 510 किलोमीटर नई सड़कें बिटुमिनस सतह के मानक की बनाई जाएगी।
  • परियोजना सड़क दुर्घटना डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली (RADMS) को लागू करेगी।
  • MPRCP की परियोजना कार्यान्‍वयन एजेंसी – मध्‍यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण (MPRRDA)

रीवा सौर पार्क डेवलपर्स को IFC $440 मिलियन ऋण प्रदान करने के लिए तैयार

  • विश्‍व बेंक की अंतर्राष्‍ट्रीय वित्‍त निगम (IFC) महिन्‍द्रा रीनिवेबल प्राइवेट लिमिटेड, एक्‍मी समूह और ग्‍लोबल प्राइवेट इक्‍वटी फंड एक्टिस एल.एल.पी. को मध्‍यप्रदेश में रीवा सौर पार्क बनाने के लिए $440 मिलियन का कर्ज प्रदान करेगी।
  • रीवा प्रोजेक्‍ट – रीवा परियोजना भारत की पहली सौर परियोजना है जो प्रतिस्‍पर्धी मूल्‍य निर्धारण के माध्‍यम से सबसे कम बिजली रदों (97 रूपये प्रति किलोवाट) को प्राप्‍त करने में मदद करने के लिए एक मानक मॉडल के रूप में केंद्र सरकार द्वारा स्‍वीकृत बिजली खरीद समझौते के साथ बिजली की अंतर-राज्‍य बिक्री का संचालन करने के लिए है।
  • रीवा परियोजना को दिसंबर 2018 में चालू किया जाना था।
  • इसके तहत तीन 250 मेगावॉट परियोजनाएं महिन्‍द्रा रीनीवेबल प्राइवेट लिमिटेड, एक्‍मी सोलर होल्डिंगस प्राइवेट लिमिटेड और एक्टिस एलएलपी की सोलेनेर्गी पावर प्राइवेट लिमिटेड को दी गई है।
  • रीवा सौर पार्क से लगभग 23% ऊर्जा दिल्‍ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (DMRC) को बेची जाएगी और उम्‍मीद है कि जब यह परियोजना बिजली की आपूर्ति शुरू करेगी तो इसकी लगभग 80% ऊर्जा की आवश्‍यकता को पूरा करेगी।
  • महत्‍वपूर्ण तथ्‍य :-
  • भारत में 2022 तक 175 गीगावाट (GW) नवीकरणीय ऊर्जा उत्‍पन्‍न करने की योजना है।
  • 175GW में से, 100GW सौर परियोजनाओं से प्राप्‍त होनी है।

मध्‍य्प्रदेश सरकार पीएमआरएसएस मिशन के तहत आयुष्‍मान भारत योजना को लागू करेगी।

  • मध्‍यप्रदेश में प्रधानमंत्री राष्‍ट्रीय सुरक्षा अभियान के तहत आयुष्‍मान भारत योजना के कार्यान्‍वयन के लिए मध्‍यप्रदेश सरकार और राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एजेंसी के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए गए है।
  • योजना का लाभ सरकारी और निजी अस्‍पतालों के माध्‍यम से कैशलेस रूप में दिया जाएगा।

मध्‍यप्रदेश में सिंचाई में सुधार के लिए एशिया विकास बैंक और भारत के बीच ऋण समझौता पर हस्‍ताक्षर किए।

  • भारत सरकार और एशियाई विकास बैंक (ADB) ने मध्‍यप्रदेश में खेती की आय को दोगुना करने के लिए $375 मिलियन ऋण समझौते पर हस्‍ताक्षर पर हस्‍ताक्षर किए।
  • इसमें 2 बड़ी सिंचाई प्रणाली शामिल होगी : कुंडलिया सिंचाई परियोजना और मौजूदा संजय सरोवर सिंचाई परियोजना।

स्‍वच्‍छ परिवहन पर ‘शहरी आवाजाही’ की सीएसई रैंकिंग में भोपाल और कोलकाता शीर्ष पर हैं।

  • नई दिल्‍ली स्थित थिंक टैंक सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट (सीएसई) ने अपनी विश्‍लेषण रिपोर्ट शीर्षक ”अर्बन ट्रिब्‍यूट” जारी की है।
  • इसका उद्देश्‍य यह समझना है कि लोगों के यात्रा करने का तरीके से वायु प्रदूषण और ऊर्जा आपूर्ति में किस तरह योगदान है।
  • यह सीएसई द्वारा विश्‍लेषण किया गया एक अध्‍ययन है जो 14 शहरों को शहरीकरण में गर्मी फँसाने वाले कार्बन डाईऑक्‍साइड और विषाक्‍त प्रदूषकों के उत्‍सर्जन के आधार पर रैंक करता है।
  • अध्‍ययन किए गए 14 शहरों में दिल्‍ली, मुम्‍बई, कोलकाता, चेन्‍नई, बैंगलुरू और हैदराबाद शामिल है (इसलिए मेगासिटी समूह कहा जाता है) और अहमदाबाद, पुणे, जयपुर, लखनऊ, कोच्चि, भोपाल, विजयवाड़ा और चंडीगढ़ (महानगरीय शहरों के रूप में वर्गीकृत) शामिल है।
  • रैंकिंग की 2 श्रेणियों थी :
  • 1.समग्र उत्‍सर्जन और ऊर्जा खपत तथा
  • 2.प्रति-यात्रा उत्‍सर्जन और ऊर्जा खपत।
  • समग्र उत्‍सर्जन और ऊर्जा खपत श्रेणी में भोपाल सबसे ऊपर है और दिल्‍ली अंतिम (14वें) स्‍थान पर है।

भारत का पहला मकई का त्‍योहार

  • मध्‍यप्रदेश के छिन्‍दवाड़ा में आयोजित यह भारत का अपनी तरह का पहला अंतर्राष्‍ट्रीय आयोजन है।
  • मध्‍यप्रदेश भारत के सबसे बड़े मकई उत्‍पादक राज्‍यों में से एक है और छिन्‍दवाड़ा सबसे अधिक मक्‍का उत्‍पादक जिला है।

”मिल-बांचे” कार्यक्रम

  • मध्‍यप्रदेश ने राज्‍य के सभी सरकारी स्‍कूलों में ”मिल-बंच” नामक अपनी तरह की पहली पहल शुरू की।
  • यह शिक्षा और अध्‍ययन को बढ़ावा देने के लिए विद्यालयों और सोसाइटी के बीच एक सहक्रियात्‍मक कार्यक्रम है।
  • इससे बच्‍चों के बहुआयामी विकास : सरकारी स्‍कूलों में भाषा कौशल उन्‍नयन, पाठ्यपुस्‍तकें पढ़ना और सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियों में मदद मिलेगी।

मध्‍यप्रदेश के पहले बहुकौशल पार्क स्‍थापित करने के लिए एशिया विकास बैंक से ऋण मंजूर

  • एशियाई विकास बैंक (ADB) ने राज्‍य में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए मध्‍यप्रदेश में पहला बहुकौशल पार्क स्‍थापित करने के लिए $150 मिलियन के ऋण को मंजूरी दे दी है।
  • ये सुविधाएं मध्‍यप्रदेश की तकनीकी एवं व्‍यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण (TVET) तंत्र को बढ़ाने में मदद करेंगी।
  • नया फ्लैगशिप वैश्विक कौशल पार्क (GPS) परिसर भोपाल में स्‍थापित किया जाएगा।

आंध्रप्रदेश ओडिशा और मध्‍यप्रदेश अमृत (AMRUT) के तहत ”ईज ऑफ लिविंग सूचकांक” में सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करने वाले राज्‍य हैं।

  • आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा अटल मिशन फॉर रेजुवेनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन (AMRUT) के तहत राष्‍ट्रीय प्रसार कार्यशाला में ईज ऑफ लिविंग इंडेक्‍स, 2018 जारी की गई।
  • आंध्रप्रदेश इस चार्ट में सबसे ऊपर है जिसके बाद क्रमश: ओडिशा और मध्‍यप्रदेश हैं।
  • ईज ऑफ डुइंग बिजनेस
  • यह देश के शहरों का एक मापक है जो उन्‍हें धारणीय शहरीकरण की दिशा में साक्ष्‍य-आधारित योजना और कार्रवाई को लागू करने और बढावा देने में सक्षम बनाता है।
  • एमओएचयूए ने 13 अगस्‍त, 2019 को 111 भारतीय शहरों को शामिल करते हुए पहली बार ईज ऑफ लिविंग इंडेक्‍स जारी किया है और सभी शहरों का मूल्‍यांकन 100 में से किया गया।
  • ईज ऑफ लिविंग फ्रेमवर्क में चार स्‍तंभों से बना था, ये संस्‍थागत, सामाजिक, आर्थिक और भौतिक थे जिन्‍हें आगे 15 श्रेणियों में 78 संकेतकों में वर्गीकृत किया गया है।
  • महत्‍वपूर्ण तथ्‍य – 17 एसडीजी लक्ष्‍यों में से, 8 लक्ष्‍य सीधे भारत की ईज ऑफ लिविंग आंकलन फ्रेमवर्क से जुड़े हैं।

राष्‍ट्रीय मा‍नसिक स्‍वास्‍थ्‍य पुनर्वास संस्‍थान

  • राष्‍ट्रीय मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पनर्वास संस्‍थान (NIMHR) की स्‍थापना के संबंध में संशोधन के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी मिल गयी है।
  • यह मध्‍यप्रदेश में भोपाल के स्‍थान पर सीहोर जिले (भोपाल-सीहोर राजमार्ग) में स्‍थापित किया जाएगा।
  • यह मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पुनर्वास के क्षेत्र में देश में अपनी तरह का पहला केंद्र होगा और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पुनर्वास के क्षेत्र में मानव संसाधन और शोध में क्षमता निर्माण का प्रतिनिधित्‍व करेगा।

निवाड़ी मध्‍यप्रदेश का 52वां जिला घोषित हुआ

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने राज्‍य में निवाड़ी जिले को शामिल करने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी।
  • यह राज्‍य का 52वां जिला बन गया।
  • यह जिला 1 अक्‍टूबर 2019 से अस्तित्‍व में आया।

बीपीएल परिवारों के लिए – ‘बिजली बिल माफी योजना’

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने गरीबों ओर मजदूरों के परिवारों के लिए बिजली बिल माफी योजना 2018 की शुरूआत की है। Madhya Pradesh Current Affairs
  • इससे 77 लाख लोगों को लाभ होगा।
  • योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता है कि लाभार्थी की 1000 वॉट से कम बिजली की खपत हो और एक पंखा, एक टेलीविजन और बल्‍ब चलाता हो।

मध्‍यप्रदेश को मातृ मृत्‍यु दर घटाने के लिए सम्‍मानित किया जाएगा।

  • प्रधानमंत्री के सुरक्षित मातृत्‍व अभियान के तहत मातृ मृत्‍यु दर करने के लिए मध्‍यप्रदेश को सम्‍मानित किया जाएगा।
  • प्रसव से पहले भारत में 3 करोड़ से अधिक गर्भवती महिलाओं की देखभाल की गुणवत्‍ता सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्‍व अभियान शुरू किया गया था।

मध्‍यप्रदेश उच्‍च न्‍यायालय के मुख्‍य न्‍यायाधीश के रूप में संजय कुमार सेठ ने शपथ ली।

  • न्‍यायमूर्ति संजय कुमार सेठ ने मध्‍यप्रदेश उच्‍च न्‍यायालय के 24वें मुख्‍य न्‍यायाधीश में रूप में शपथ ली हैं। Madhya Pradesh Current Affairs

मध्‍यप्रदेश ने अपना 63वां स्‍थापना दिवस मनाया – 1 नवंबर

  • मध्‍य प्रदेश ने अपना 63वां स्‍थापना दिवस मनाया।
  • मध्‍य प्रदेश की स्‍थापना 1 नवंबर, 1956 को हुई थी।
  • इस वर्ष के समारोह का विषय था : मध्‍य प्रदेश की धरोहर।

मध्‍यप्रदेश सरकार ने एक आध्‍यात्मिक विभाग बनाने की घोषणा की।

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने एक नया आध्‍यात्मिक विभाग बनाने की घोषणा की है।
  • प्रस्‍तावित नए विभाग को कई मौजूदा विभागों को मिलाकर बनाया जाएगा।
  • मध्‍यप्रदेश धार्मिक न्‍यास एवं धर्मस्‍व विभाग, आनंद विभाग, धार्मिक न्‍यास एवं बंदोबस्‍ती निदेशालय के अलावा, मध्‍यप्रदेश तीर्थ एवं मेला प्राधिकरण तथा राज्‍य आनंद संस्‍थान को प्रस्‍तावित विभाग में विलय किया जाएगा।
  • मध्‍यप्रदेश देश में खुली विभाग बनाने वाला पहला राज्‍य था।

महिला पुलिस स्‍वयंसेवी योजना

  • महिला पुलिस स्‍वयंसेवा योजना के कार्यान्‍वयन के लिए आंध्रप्रदेश, गुजरात, मिजोरम, छत्‍तीसगढ़, कर्नाटक और मध्‍यप्रदेश राज्‍यों से प्रस्‍ताव को केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया है।
  • हरियाणा वित्‍तीय वर्ष 2016-2017 के दौरान निर्भया फंड के तहत पायलट आधार पर करनाल और महेंद्रगढ़ जिले में महिला पुलिस वालंटियर की पहल को अपनाने वाला पहला राज्‍य था।
  • महिला पुलिस स्‍वयंसेवी योजना :- महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा गृह पुलिस मंत्रालय के सहयोग से महिला पुलिस स्‍वयंसेवा की शुरूआत की गई थी। Madhya Pradesh Current Affairs
  • योजना की मुख्‍य विशेषताएं हैं :
  • कोई भी महिला पुलिस स्‍वयंसेवी हो सकती है जो सामाजिक और स्‍वैच्छिक रूप से महिलाओं और लड़कियों के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध हो, लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ अपनी आवाज उठाने को तैयार हो और हिंसा से मुक्‍त समाज बनाने के लिए पुलिस का समर्थन करें।
  • एक महिला पुलिस स्‍वयंसेवक की न्‍यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए और वह कम से कम 12वीं पास हो। उसके खिलाफ कोई आपराधिक कार्यवाही दर्ज नहीं हुई हो और वह किसी भी आपराधिक कानून के उल्‍लंघन के लिए दोषी ठहराई या जेल नहीं गयी हो।
  • महिला पुलिस स्‍वयंसेवकों को कम्‍यूनिटी वॉच ग्रुप के रूप में कार्य करने के  लिए महिला और शिशु रक्षक दल (MASRD) बनाने के लिए समुदाय को जुटाना आवश्‍यक है।

प्रसाद (PRASAD) योजना : केंद्र ने उत्‍तराखंड में गंगोत्री और यमुनोत्री, मध्‍यप्रदेश में अमरकंटक और झारखंड में पारसनाथ को शामिल किया हैं :-

  • केन्‍द्र सरकार ने देश में तीर्थशत्रा और विरासत स्‍थलों को विकसित करने के लिए उत्‍तराखंड में गंगोत्री और यमुनोत्री मध्‍यप्रदेश में अमरकंटक और झारखंड में पारसनाथ को तीर्थयात्रा कायाकल्‍प और आध्‍यात्मिक, विरासत संवर्धन पहल (PRASAD) के तहत शामिल किया है।
  • अब 25 राज्‍यों में PRASAD के तहत स्‍थलों की कुल संख्‍या अब 41 हो गई है।
  • प्रसाद (PRASAD) :
  • इसे 2014-15 में केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था।
  • इसका उद्देश्‍य पूर्ण धार्मिक पर्यटन अनुभव प्रदान करने के लिए नियोजित, प्राथमिकता वाले और धारणीय तरीके से तीर्थ स्‍थलों का एकीकृत विकास करना है।
  • यह योजना चिन्हित तीर्थ स्‍थलों के विकास और सौंदर्यीकरण पर केंद्रित है।
  • यह 100% केंद्र सरकार द्वारा वित्‍त पोषित योजना है।

संबल योजना : मध्‍यप्रदेश सरकार ने सब्सिडी वाली बिजली योजना शुरू की।

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने मजदूरों और गरीब परिवारों के लिए सब्सिडी वाली बिजली योजना की शुरूआत की है जो एक उत्‍कृष्‍ट बिजली बिल माफी योजना है।
  • संबल योजना के तहत, राज्‍य से असंगठित क्षेत्र के बीपीएल परिवारों और पंजीकृत मजदूरों को प्रति माह 200 रूपये की लागत से बिजली प्रदान की जाएगी।
  • लाभार्थियों को मुफ्त में बिजली कनेक्‍शन दिया जाएगा। Madhya Pradesh Current Affairs

भारत और एशिया विकास बैंक ने मध्‍य प्रदेश में ग्रामीण कनेक्टिविटी में सुधार के लिए $110 मिलियन ऋण समझौते पर हस्‍ताक्षर किए।

  • केन्‍द्र सरकार और एशियाई विकास बैंक ने मध्‍यप्रदेश में विकास परियोजनाओं के लिए $110 मिलियन के ऋण पर हस्‍ताक्षर किए।
  • इसका उद्देश्‍य प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क कार्यक्रम (पीएमजीएस) के तहत मध्‍यप्रदेश राज्‍य में 2800 किलोमीटर की सभी मौसम वाली ग्रामीण सड़कों को उन्‍नत बनाना है।

पहला एकीकृत स्‍मार्ट सिटीज कंट्रोल सेंटर

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने भोपाल में राज्‍य के सभी सात स्‍मार्ट शहरों के लिए भारत का पहला एकीकृत नियंत्रण और कमांड सेंटर (ICCC) लॉन्‍च किया।
  • स्‍मार्ट शहरों के लिए भारत का पहला ICCC
  • आईसीसीसी राज्‍य अधिकारियों को इससे जुड़े सेंसर के माध्‍यम से वास्‍तविक समय में विभिन्‍न स्‍मार्ट नागरिक सुविधाओं की स्थिति की निगरानी करने में सक्षम बनाएगा।
  • इसमें क्‍लाउड-आधारित यूनिवर्सल इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स (UIoT) प्‍लेटफॉर्म है और इसे हेवलेट पैक्‍ट एंटरप्राइज द्वारा विकसित किया गया है। Madhya Pradesh Current Affairs
  • महत्‍वपूर्ण तथ्‍य : मध्‍यप्रदेश के जिन शहरों को स्‍मार्ट सिटीज मिशन के तहत चुना गया है वे हैं भोपाल, इंदौर, उज्‍जैन, ग्‍वालियर, जबलपुर, सतना और सागर हैं।

बालकवि बैरागी

  • प्रसिद्ध कवि और राजनेता श्री बालकवि बैरागी का 87 वर्ष की आयु में मध्‍यप्रदेश में निधन हो गया।
  • उनका पूरा नाम नंद रामदास बालकवि बैरागी था।
  • उन्‍होंने बच्‍चों के लिए कई कविताएँ लिखी जिनमें झार में पाट, बिसार गेड़ तहनी (पते गिर गए, शाखा भूल गए) उनकी प्रशंसित कविताओं में से एक थी।

एंजोली इला मेनन ने दृश्‍य कला के लिए कालिदास सम्‍मान से सम्‍मानित हुए।

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने प्रसिद्ध कलाकार एंजोली इला मेनन को दृश्‍य कला में उनके बहुमूल्‍य योगदान के लिए प्रतिष्ठित राष्‍ट्रीय कालिदास सम्‍मान दिया।
  • इस पुरस्‍कार को विभिन्‍न प्रकार के माध्‍यमों द्वारा उनके सार्थक चित्रों से महिलाओं की पहचान और आत्‍मा के व्‍यावहारिक और संवेदनशील चित्रण के लिए सम्‍मानित किया गया है।
  • एंजोली इला मेनन
  • इन्‍हें भारत के सबसे कुशल कलाकारों में गिना जाता है।
  • यह एक प्रसिद्ध मुरलीवादी है और भारत के प्रमुख समकालीन कलाकारों में से एक हैं।
  • कालीदास सम्‍मान
  • यह मध्‍यप्रदेश सरकार द्वारा प्रतिवर्ष दिया जाने वाला एक प्रतिष्ठित कला पुरस्‍कार है।
  • यह पुरस्‍कार प्राचीन भारत के प्रसिद्ध शास्‍त्रीय संस्‍कृत लेखक कालिदास के नाम पर है।
  • इसे पहली बार 1980 में दिया गया था।
  • इसे शुरू में शास्‍त्रीय संगीत, शास्‍त्रीय नृत्‍य, रंगमंच और प्‍लास्टिक कला के क्षेत्र में वैकल्पिक वर्षों में सम्‍मानित किया गया था।
  • 1986-67 के बाद से, इसे हर साल सभी चार क्षेत्रों में प्रस्‍तुत किया गया था।

मध्‍यप्रदेश के सड़क बुनियादी ढांचे के वित्‍तपोषण के लिए पेट्रोल और डीजल पर 50 पैसे उपकर लगाया है।

  • मध्‍यप्रदेश ने राज्‍य में बुनियादी ढांचे के विकास और यातायात में सुधार के लिए 50 पैसे का उपकर लगया है। Madhya Pradesh Current Affairs
  • राज्‍य सरकार ने इस उपकर से सालाना 200 करोड़ रूपये जुटाने का लक्ष्‍य रखा है।

भारत और वियतनामी सेनाओं ने मध्‍यप्रदेश के जबलपुर के पहला सैन्‍य अभ्‍यास “VINBAX” आयोजित किया।

  • भारत और वियतनामी सेनाओं ने मध्‍यप्रदेश के जबलपुर में छह दिवसीय सैन्‍य अभ्‍यास “VINBAX” आयोजित किया।
  • यह भारत और वियतनाम के बीच पहला सैन्‍य अभ्‍यास था।

44वां खजुराहो नृत्‍य महोत्‍सव मध्‍यप्रदेश में आयोजित किया गया।

  • खजुराहो नृत्‍य समारोह मध्‍यप्रदेश के छतरपुर जिले में शुरू किया गया।
  • यह उत्‍सव मध्‍यप्रदेश सरकार के संस्‍कृति विभाग द्वारा आयोजित किया गया था।
  • इसमें कथक, ओडिसी, भरतनाट्यम, कुचिपुड़ी, कथकली और मोहिनीआट्टम जैसे शास्‍त्रीय नृत्‍य पेश किए गए।

राष्‍ट्रीय संस्‍कृत महोत्‍सव

  • राष्‍ट्रीय संस्‍कृत महोत्‍सव इंदौर, मध्‍यप्रदेश में आयोजित किया गया था।
  • यह एक भारत श्रेष्‍ठ भारत विचार पर संस्‍कृति मंत्रालय द्वारा आयोजित किया गया था।
  • यह विविधता में एकता के विचार को रेखांकित करने के लिए मनाया जाता है।
  • यह 7 दिनों के लिए आयोजित किया गया।

मातृत्‍व लाभ कार्यक्रम के तहत आंध्रप्रदेश, हिमाचल और मध्‍यप्रदेश सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करने वाले राज्‍य :

  • आन्‍ध्रप्रदेश, हिमाचल प्रदेश और मध्‍यप्रदेश मातृत्‍व लाभ कार्यक्रम प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के तहत शीर्ष तीन प्रदर्शन करने वाले राज्‍य थे।
  • PMMVY एक केन्‍द्र प्रायोजित योजना है, जिसके तहत केंद्र, राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों के बीच कानून के साथ लागत साझा अनुपात 60:40 है।

मध्‍यप्रदेश कुनो राष्‍ट्रीय उद्यान के रूप में घोषित, बिर के शेरों के लिए रास्‍ता खुला।

  • मध्‍यप्रदेश वन विभाग ने बहुप्र‍तीक्षित ‘गुजरात के गिर से एशियाई शेरों के स्‍थानांतरण’ के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्‍त समिति द्वारा लगाई गई अंतिम शर्त के अनुपालन के साथ कुनो को एक ‘राष्‍ट्रीय उद्यान’ के रूप में अधिसूचित किया है।
  • कुनो राष्‍ट्रीय उद्यान
  • कुनो राष्‍ट्रीय उद्यान मध्‍यप्रदेश का एक संरक्षित क्षेत्र है जिसे 2018 में राष्‍ट्रीय उद्यान का दर्जा प्राप्‍त हुआ है। Madhya Pradesh Current Affairs
  • संरक्षित क्षेत्र को सन् 1981में श्‍योपुर और मुरैना जिलों में 2344.686 वर्ग किमी (133.084 वर्ग मील) के क्षेत्र के साथ एक वन्‍यजीव अभ्‍यारण्‍य के रूप में स्‍थापित किया गया था।
  • इसे कुनो-पालपुर और पालपुर-कुनों वन्‍यजीव अभ्‍यारण्‍य के रूप में भी जाना जाता था।
  • वह काठियावाड़-गिर शुष्‍क पर्णपाती वन पारिस्थितिकी क्षेत्र का हिस्‍सा है।

एडवेंचर नेक्‍सट, 2018

  • एडवेंचर नेक्‍सट, एडवेंचर मैप पर उभरते हुए स्‍थलों को स्‍थान देने में मदद करता है।
  • अतुल्‍य भारत का दिल – मध्‍यप्रदेश सुंदर झील शहर – भोपाल में पहली बार ‘एडवेंचर नेक्‍स्‍ट’ की मेजबानी करने के लिए रोमांचित है।
  • इस आयोजन का विषय ‘पल्‍स ऑफ टुमॉरो’ है।
  • मध्‍य प्रदेश ‘एडवेंचर नेक्‍स्‍ट’ की मेजबानी करने वाला एशिया में प्रथम है।
  • यह कार्यक्रम यूनाइटेड स्‍टेट्स आधारित एडवेंचर ट्रैवल ट्रेड एसोसिएशन (ATTA) द्वारा आयोजित किया जा रहा है।
  • यह शैक्षिक कार्यशालाओं और क्षेत्रीय विषयों पर आधारित सत्रों को शामिल करते हुए अंतर्राष्‍ट्रीय खरीददारों और मीडिया के लिए साहसिक स्‍थलों को पेश करने में मदद करता है।

मोस्‍ट फिल्‍म फ्रेंडली अवार्ड

  • मध्‍यप्रदेश को केन्‍द्र सरकार द्वारा मोस्‍ट फिल्‍म फ्रेंडली स्‍टेट अवार्ड 2017 से सम्‍मानित किया गया।
  • मध्‍यप्रदेश को राज्‍य में फिल्‍मांकन में आसानी के लिए पुरस्‍कार, उत्‍कृष्‍ट जमीनी सहायता, फिल्‍म संबंधी बुनियादी ढांचे, सूचनात्‍मक वेबसाइट और फिल्‍म निर्माण के लिए प्रोत्‍साहन के लिए चुना गया है। Madhya Pradesh Current Affairs
  • यह पुरस्‍कार 65वें राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कारों की प्रस्‍तुति के दौरान दिया गया है।

स्‍वच्‍छ भारत यात्रा के तहत पुरस्‍कार

  • FSSAI ने अपने ईट राइट इंडिया पहल को बढ़ाने के लिए स्‍वक्ष्‍छ भारत यात्रा शुरू की थी।
  • स्‍वक्ष्‍छ भारत यात्रा एक 100-दिवसीय उपभोक्‍ता पहुंच कार्यक्रम था।
  • अनुकरणीय भागीदारी के लिए पुरस्‍कार
  • सर्वश्रेष्‍ठ राज्‍य (सम्‍पूर्ण) – तमिलनाडु
  • 3 करोड़ से अधिक आबादी वाले सर्वश्रेष्‍ठ राज्‍य : गुजरात, मध्‍यप्रदेश, उत्‍तरप्रदेश और महाराष्‍ट्र।
  • 3 करोड़ से कम आबादी वाले सर्वश्रेष्‍ठ राज्‍य : पंजाब, गोवा और दिल्‍ली।

शहरी युवाओं के लिए युवा स्‍वाभिमान योजना

  • मध्‍यप्रदेश सरकार ने मध्‍यप्रदेश के शहरी क्षेत्रों में कमजोर वर्ग के युवाओं के लिए युवा स्‍वाभिमान योजना की शुरूआत की है।
  • इस योजना को छिन्‍दवाड़ा मध्‍यप्रदेश से शुरू किया गया था।
  • इसका उद्देश्‍य मुख्‍य रूप से राज्‍य के शहरी क्षेत्रों में समाज के कमजोर वर्ग के युवाओं को रोजगार प्रदान करना है।
  • इस योजना के तहत 100 दिन का रोजगार उपलब्‍ध कराया जाएगा।

MPPSC से संबंधित अन्य पोस्ट

दोस्तो आप मुझे ( नितिन गुप्ता ) को Facebook पर Follow कर सकते है ! दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

दोस्तो कोचिंग संस्थान के बिना अपने दम पर Self Studies करें और महत्वपूर्ण पुस्तको का अध्ययन करें , हम आपको Civil Services के लिये महत्वपूर्ण पुस्तकों की सुची उपलब्ध करा रहे है –

TAG – Most Important Madhya Pradesh Current Affairs 2019 – 20 in Hindi, MP Current Affairs 2019, MPPSC Current Affairs, Madhya Pradesh Samsamayaki, MP Current GK in Hindi

About the author

Nitin Gupta

GK Trick by Nitin Gupta पर आपका स्वागत है !! अपने बारे में लिखना सबसे मुश्किल काम है ! में इस विश्व के जीवन मंच पर एक अदना सा और संवेदनशीलकिरदार हूँ जो अपनी भूमिका न्यायपूर्वक और मन लगाकर निभाने का प्रयत्न कर रहा हूं !! आप मुझे GKTrickbyNitinGupta का Founder कह सकते है !
मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने बाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है !! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कट अभिलाषा है !!

Leave a Comment