MPPSC Strategy

Target MPPSC – 2018 ( Syllabus , Strategy and Free PDF )

MPPSC PDF Notes
Written by Nitin Gupta

 How to Prepare For MPPSC 

नमस्कार दोस्तो , सबसे पहले आप सभी का बेहद शुक्रिया ! आप सभी की वजह से ही हमारी यह बेबसाईट इतनी ऊंचाइयों तक पहुच पाई है ! आज हमारी बेबसाईट पर प्रतिदिन औसतन 60 हजार व्यक्ति पढने के लिये विजिट करते हैं तो इसके लिये आप सभी का बहुत बहुत धन्यबाद ! 
दोस्तो , जैसा कि आप सभी को पता होगा कि MPPSC – 2018 का Notificationa आ चुका है और परीक्षा की तिथि 19 फ़रबरी निर्धारित की गई है , तो कैसे हम इतने कम समय में इसमें सफ़लता प्राप्त कर सकते हैं ! तो आज इस पोस्ट में हम आपको इसकी एक सुनियोजित रणनीति के साथ साथ MPPSC के लिये महत्वपूर्ण PDF भी available कराऐंगे , जो कि आपकी तैयारी में बिशेष रूप से सहायक होंगी ! 
मध्यप्रदेश राज्य सेवा परीक्षा ( MPPSC ) के माध्यम से उच्च प्रशासनिक पद की प्राप्ति बड़ी संख्या में युवाओं का एक कैरियर स्वप्न होता है। वे युवा जो अत्यधिक प्रतिस्पर्धा के कारण सिविल सविर्स परीक्षा में चयनित नहीं हो पाते हैं या जिनका उद्देश्य राज्य में रहकर ही प्रशासनिक सेवा की डगर पर बढ़ना होता है, वे परिश्रम, आत्मविश्वास और सुनियोजित तैयारी से राज्य के विभिन्न तरह के प्रशासनिक पदों पर चयनित हो सकते हैं
आपको पता होगा कि मध्यप्रदेश राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 में दो वस्तुनिष्ठ प्रश्नपत्र होंगे। पहला प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन का एवं दूसरा प्रश्नपत्र जनरल एप्टीट्यूट टेस्ट का होगा। सामान्य अध्ययन तथा जनरल एप्टीट्यूट टेस्ट के प्रश्नपत्र में 100-100 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएँगे तथा प्रत्येक प्रश्न दो अंकों का होगा ग़ौरतलब है कि इस परीक्षा में मेधावी छात्रों के साथ-साथ वे सभी छात्र-छात्राएँ सफलता की एक जैसी ही संभावनाएँ रखते हैं जो परिश्रम, सुनियोजित तैयारी और अच्छे अध्ययन संदर्भ को आधार बना लेते हैं। नि:संदेह यदि प्रारंभ से ही तैयारी की रणनीति बना ली जाए और अच्छी पुस्तकों तथा पत्रिकाओं को अध्ययन का आधार बना लिया जाए तो पहले दिन से ही सफलता की संभावनाएँ आपकी मुट्ठी में समा जाती हैं।

 1. सामान्य अध्ययन 

जैसा कि आप सभी को पता होगा कि Selection केबल और केबल इसी पेपर पर आधारित होगा क्योंकि दूसरा पेपर यानी कि CSAT का पेपर MPPSC ने Qualify कर दिया है ! तो Mains के लिये मेरिट मात्र इसी पेपर से बनेगी तो हमें केवल इसी पेपर में अधिकतम मार्क लानें है ! 

इस परीक्षा में सम्मिलित होने वाले सभी प्रतियोगी सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र के लिए चिंतित तो रहते हैं लेकिन सुनियोजित रूप से वे उसकी तैयारी नहीं करते हैं। नि:संदेह सामान्य अध्ययन की तैयारी पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। क्योंकि इसी के आधार पर मुख्य परीक्षा के लिये मेरिट तैयार की जाती है ! इसके लिये आपको सबसे पहले इसके पिछ्ले पेपर का अध्ययन करना चाहिये ताकि आप जान पाऐं कि इस टापिक से किस तरह से Question आते हैं नीचे हम आपको इसकी PDF की लिंक उपलब्ध करा रहे हैं जिस पर क्लिक करके आप MPPSC के पिछले सामान्य अध्ध्यन के पेपर डाउनलोड कर सकते हैं !

दोस्तो इसके अलाबा सामान्य ज्ञान को कम समय में अच्छे से याद करने के लिये आप मेरी बेबसाईट पर मौजूद सभी बिषयों की ट्रिक्स की भी मदद ले सकते हैं , ट्रिक्स के लिये नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करके आप पढ सकते हैं 

विस्त्रत रणनीति के लिये हम नीचे MPPSC के Syllabus के अनुसार प्रत्येक टापिक पर जाकर बात करते हैं ! .




सामान्य विज्ञान एवं पर्यावरण – मध्यप्रदेश राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 के सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र में सामान्य विज्ञान एवं पर्यावरण एक महत्वपूर्ण खंड है। सामान्य विज्ञान एवं पर्यावरण में भौतिकी, रसायन शास्त्र, जीव विज्ञान तथा पर्यावरण एवं पर्यावरण संरक्षण से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं । पिछले प्रश्न पत्रों के अध्ययन से पता चलता है कि इसमें पर्यावरण का औसत लगातार बढता जा रहा है ! तो इसके लिये आपको इसके पर्यावरण खंड पर बिशेष ध्यान देने की आवश्यकता है ! तो हम आपको इसकी कुछ PDF उपलब्ध करा रहे हैं जिसे आप Download कर सकते हैं 

राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं – राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाओं की तैयारी में प्रतियोगियों को चाहिए कि वे केवल राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्व की राजनीतिक घटनाओं को ही इस खंड की तैयारी में शामिल न करें अपितु चर्चा में रहने वाले विभिन्न विषयों पर भी ध्यान दें। पिछ्ला 2017 के MPPSC के पेपर में इस टापिक से बहुत ज्यादा Question पूंछे गये थे तो आपको इस Current के टापिक पर सबसे अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है और Specially MP Cureent पर ! इसके लिये आपको पिछले 8 महीने की करेंट को अच्छे से पढना होगा ! तो कोई भी एक करेंट Monthly Current Magzine को आप पढ सकते हैं , मेरे हिसाब से आपको प्रतियोगिता निर्देशिका को पढना चाहिये ! वो MPPSC के हिसाब से एक बढिया Magzine है ! इसके अलावा हम एक PDF आपको Available करा रहे हैं जिसमें केबल MP की करेंट होगी तो उसे आपको बिशेष  रूप से पढना चाहिये ! इसके अलाबा भी इससे संबंधित अन्य PDF हम आपको उपलब्ध कराते रहेंगे , तो आप नियमित रूप से इस पोस्ट को देखते रहिये !

भारत का इतिहास एवं स्वतंत्र भारत – मध्यप्रदेश राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 के सामान्य अध्ययन खंड में भारतीय इतिहास तथा संस्कृति से संबंधित कई प्रश्न पूछे जाते हैं। इसकी तैयारी हेतु इतिहास को तीन भागों यथा प्राचीन भारत, मध्यकालीन भारत तथा आधुनिक भारत में बाँटा जा सकता है। आधुनिक इतिहास सबसे महत्वपूर्ण तथा सर्वाधिक अंकदायी भाग है, अत: इस पर विशेष ध्यान केंद्रित करना चाहिए। स्वतंत्रता संग्राम की महत्वपूर्ण घटनाओं का अध्ययन भी आवश्यक है। पिछ्ले प्रश्न पत्रों के अध्ध्यन से पता चलता है कि इस भाग से लगातार प्रश्नों की संख्या कम होती जा रही है , तो मेरा आपसे सुझाव है कि इसको बहुत ही संक्षिप्त में पढें और आधुनिक भारत को ज्यादा से ज्यादा पढें ! इसकी भी हम आपको एक PDF Available करा रहे हैं जिसे आप Download करके पढ सकते हैं ! इसके अलाबा भी इससे संबंधित अन्य PDF हम आपको उपलब्ध कराते रहेंगे , तो आप नियमित रूप से इस पोस्ट को देखते रहिये !

भूगोल – भूगोल खंड में भूगोल से संबंधित प्रश्न होते हैं। इनमें भूकंप के बुनियादी लक्षण, दुनिया के जलवायु क्षेत्र, बंदरगाह, ज्वार-भाटा, नदियाँ, बहुउद्देशीय परियोजनाएँ, सिंचाई, फसलें आदि मुख्य होते हैं। मध्यप्रदेश की भौगोलिक जानकारी से जुड़े प्रश्न भी बहुतायात में पूछे जाते हैं। इसकी भी एक PDF हमारे पास है जो हम आपको उपलब्ध करा रहे हैं ! इसके अलाबा भी इससे संबंधित अन्य PDF हम आपको उपलब्ध कराते रहेंगे , तो आप नियमित रूप से इस पोस्ट को देखते रहिये !

भारतीय राजव्यवस्था  – राजव्यवस्था के अंतर्गत, राज्य के नीति निदेशक तत्व, मूल कर्तव्य, कार्यपालिका, आथिर्क प्रक्रिया जैसे बजट ( विभिन्न प्रकार के विधेयक जैसे वित्त विधेयक धन विधेयक आदि ), न्यायपालिका विशेषत: सर्वोच्च न्यायालय व उच्च न्यायालय के अधिकार ( उनके ऐतिहासिक विकास सहित ), संघ व राज्यों के बीच संबंध, प्रशासनिक अधिकरण, चुनाव व चुनाव सुधार, आपातकालीन प्रावधान, संविधान संशोधन, पंचायती राज व्यवस्था इत्यादि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इसलिए इन खंडों को विशेष रूप से तैयार करें ! इसकी PDF भी हम आपको उपलब्ध करा रहे हैं जिसे आप पढ सकते हैं ! 

अर्थव्यवस्था – सामान्य अध्ययन का एक और महत्वपूर्ण खंड है अर्थव्यवस्था। इसके लिए प्रतियोगी को भारतीय व विश्व अर्थव्यवस्था में हुई पहल व विकास का समीक्षात्मक विश्लेषण करना चाहिए। इसकी भी PDF आप नीचे पढ सकते हैं – 

सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी –  इसके अंतर्गत मुख्यता कंप्यूटर आता है , और इस टापिक से पिछले कुछ सालों में लगातार प्रश्न बढते ही जा रहे हैं तो इस पर आपको बिशेष ध्यान देने की आवश्यकता है ! इसके लिये कंप्यूटर का अच्छे से अध्ध्यन कीजिये ! इस भाग की तैयारी हेतु आप बेसिक कम्प्यूटर की किताबों का सहारा भी ले सकते हैं। कंप्यूटर की कुछ PDF हम आपको Available करा रहे हैं जो कि Most Important हैं इन्हें आप अच्छे से पढ डालिये 

खेलकूददोस्तो इस टापिक से 2017 के Exam में बहुत प्रश्न आये थे तो इस पर भी आपको बिशेष ध्यान देने की आवस्यकता है ! इसमें करेंट खेलकूंद से संबंधित प्रश्न ज्यादा आते हैं जिन्हें आप करेंट के समय तैयार कर सकते हैं ! इसके अलाबा आप लूसेंट सामान्य ज्ञान की पुस्तक में से इसे अच्छे से पढ सकते हैं ! इसकी भी PDF हम आपको जल्द उपलब्ध कराऐंगे , तो आप नियमित रूप से इस पोस्ट को देखते रहिये !

मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान – दोस्तो MPPSC में मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान से बहुत अधिक प्रश्न पूंछे जाते हैं ! लगभग 20 से 25 प्रश्न आने की संभावना इस बार भी है तो मेरा आपसे अनुरोध है कि MP – GS को अच्छे से पढिये , इसके लिये आप पुणेकर या महावीर की कोई भी पुस्तक मार्केट से ले सकते हैं ! और हम आपको इसकी कुछ PDF भी available करा रहे हैं जो कि बहुत ही MOST Important हैं , इन्हें आप Download करके पढ सकते हैं ! 

अधिनियम – इसके अलाबा MPPSC Prelims के इस प्रश्न पत्र में तीन अधिनियम ( Ect ) को भी Syllabus में रखा गया है ! अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निवारण अधिनियम ) 1989 (1889 का 33) एवं सिविल अधिकार संरक्षण अधिनियम 1955 (1955 का 22) , मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 ! तो दोस्तो आप इन तीनों Ect को अच्छे से पढिये क्योंकि इनसे 6 से 8 Questions आने की संभावना है और यही एकमात्र ऐसा Part है जिसमें आप Full Marks ला सकते हो तो आप इसे अच्छे से पढिये , इसके लिये आप महावीर की Act की Book ले सकते हैं और इसके लिये हमारी बेबसाइट पर पोस्ट व PDF भी जल्द उपलब्ध कराऐंगे ! तो आप हमारी इस पोस्ट व हमारी बेबसाईट को Regular Visit करते रहिये ! 

Conclusion – तो दोस्तो , आप समझ ही गये होंगे कि MPPSC Pre. में केबल और केबल इसी पेपर का महत्व है , तो आपको मेरा कहना यही है कि आप तीनों Act को अच्छे से पढिये ताकि आपका कोई भी Question गलत न हो ! और उसके अलाबा मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान एव पिछले 8 महीने की करेंट अफ़ेयर्स को बहुत अच्छे से पढिये अगर आपने इन तीनों को अच्छे से पढ लिया तो आपका 50 प्रतिशत Questions पर पकड हो जायेगी ! इसके अलाबा सामान्य ज्ञान के पेपर में आपको राजव्यवस्था , कंप्यूटर व पर्यावरण पर बिशेष ध्यान देना होगा ! तो आपका Selection पक्का है ! इसके अलाबा हम आपको कुछ Most Important PDF की लिंक भी नीचे avalable करा रहें हैं जिन पर Click करके आप इन्हे Download कर सकते हैं जो कि MPPSC के लिये बहुत ही Most Important हैं !

Note – दोस्तो इस PDF को संजीव मालवीय जी ने बनाया है जिसमें कि MPPSC के Syllabus के अनुसार सभी टापिक को कवर किया गया है जो कि ंबहुत ही उपयोगी PDF है तो आप इसे अच्छे से जरूर पढ लीजियेगा 

इसके अलावा अन्य PDF व पोस्ट – 




 2. सामान्य अभिरुचि 

अभिरुचि प्रश्नपत्र के पाठ्यक्रम के विभिन्न भागों में बोधगम्यता, संचार कौशल सहित अन्तवैर्यक्तिक कौशल, ताकिर्क तर्क एवं विश्लेषण योग्यता, निर्णय लेना एवं समस्या का समाधान करना, सामान्य मानसिक योग्यता, आधारभूत संख्यांकन तथा हिन्दी भाषा बोधगम्यता कौशल सम्मिलित हैं। इसके नंबर मुख्य परीक्षा के लिये बनने बाली मेरिट में नहीं जुडते हैं , इस पेपर में बस Qualify होना होता है ! तो आप बस इसके 10-15 Practise Test लगा लें इसको ज्यादा पढने की जरूरत नहीं है ! लेकिन अगर आपका CSAT अत्याधिक कमजोर है  तो आपको इसे पढना पडेगा ताकि आप इसमें Qualify हो सकें !

  • बोधगम्यता का क्षेत्र उम्मीदवार की भाषा को समझने की क्षमता का परीक्षण करता है। इसमें गद्य अवतरण पर आधारित प्रश्नों के द्वारा यह परखा जाता है कि उम्मीदवार तथ्य खोजने, सूचनाओं का विश्लेषण करने, कथ्य की व्याख्या करने, दी गई सूचनाओं से निष्कर्ष निकालने तथा सूचनाओं के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष अर्थ को समझने में कितना दक्ष है। उम्मीदवार को सर्वप्रथम अवतरण को पढ़कर उसके निहितार्थ को समझने की कोशिश करनी चाहिए। एक बार गद्यांश पढ़कर मूल भाव को समझने में कठिनाई हो तो उसे एक से अधिक बार पढ़ें। जब तक निहितार्थ समझ में न आ जाए, दिए गए गद्यांश को बारंबार पढ़ें। निहितार्थ समझ लेने पर प्रश्नों का उत्तर देना बहुत आसान हो जाता है।
  • संचार कौशल सहित अंतवैर्यक्तिक कौशल का उद्देश्य सामाजिक अंत:क्रिया के कारकों को समझने और उनका प्रबंधन करने की उम्मीदवार की योग्यता परखना है। प्रशासन के संदर्भ में, आंतरिक गुणों के रूप में व्यक्ति की उन आंतरिक क्षमताओं, व्यवहार, संवाद के गुण आदि को देखा-परखा जाता है, जिनका उपयोग वे प्रशासन संगठन में कार्यों की सफलता के लिए करते हैं। इस प्रकार के प्रश्नों का उत्तर काफी सोच समझकर दें।
  • ताकिर्क तर्क एवं विश्लेषात्मक योग्यता संबंधी प्रश्न दिए गए विवरणों की कमांड, औपचारिक निगमनात्मक योग्यता, नियमों द्वारा व्यवहार को सीमित और आदेशित करने के ढंग से तथा समस्याएँ हल करने के लिए डाटा के अनेक अंशों का उपयोग करने की योग्यता परखते हैं, अत: उम्मीदवारों में निम्नलिखित कौशलों का होना आवश्यक है। 1. सूचना को समझना। 2. सूचना का आरेखन। 3. सूचना को क्रम से लगाना (सीक्वेंसिंग)। यदि आप इन बातों को ध्यान रखते हुए प्रश्नपत्र के इस खंड को हल करेंगे तो निश्चित ही प्रश्नों के सही उत्तर दे पाएँगे।
  • निर्णय लेना एवं समस्या का समाधान करना प्रशासनिक व्यवहार का एक अहम बिन्दु है। निर्णय लेना एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके अन्तर्गत कोई व्यक्ति विभिन्न रणनीतियों या विकल्पों में से किसी एक विकल्प का चुनाव करता है। प्रश्नपत्र में निर्णय लेने और समस्या-समाधान से संबंधित प्रश्न पूछे जाएँगे जिनका उद्देश्य किसी जटिल स्थिति के प्रति उम्मीदवार की प्रतिक्रिया और उस स्थिति से उत्पन्न होने वाली समस्या का उपयुक्त समाधान ढूँढ़ने का उसका विवेकपूर्ण दृष्टिकोण परखना है। इस भाग में दी गई सूचनाओं एवं परिस्थितियों के आधार पर उम्मीदवार की निर्णय-क्षमता को जाँचा एवं परखा जाता है। प्रश्न साधारणत: कुछ परिस्थितियों से संबंधित होंगे, जिनके आधार पर आपको कोई कार्यवाही करनी होगी तथा बताना होगा कि उक्त कार्यवाही क्यों करनी चाहिए। वास्तविक जीवन, कानून एवं व्यवस्था, परिस्थितियाँ अथवा प्रशासनिक कथन और नीति एवं नैतिकता के आधार पर निर्णय लेने संबंधी प्रश्न इस क्षेत्र के अन्य महत्वपूर्ण भाग हैं।
  • सामान्य मानसिक योग्यता की परीक्षा में संख्यात्मक, शाब्दिक, अमूर्त या स्थानिक रीजनिंग के प्रश्न शामिल रहते हैं। इस प्रकार के प्रश्नों को हल करने के लिए यह आवश्यक है कि उम्मीदवार अपनी कल्पना शक्ति और स्थान बोध का भरपूर प्रयोग करे। प्रश्नों को हल करने की संपूर्ण प्रक्रिया एक मानसिक प्रक्रिया होती है, अत: उम्मीदवारों के लिए यह आवश्यक है कि वे विभिन्न स्थानिक पोर्टमैन को अपनी कल्पना की आँखों से निर्धारित करने में विशिष्ट निपुणता का प्रयोग करें।
  • मध्यप्रदेश राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के जनरल एप्टीट्यूट टेस्ट प्रश्नपत्र में एक भाग आधारभूत संख्यांकन और आँकड़ों का निर्वचन नाम से दिया गया है। वस्तुत: ये दोनों लंबे समय से विभिन्न परीक्षाओं के पाठ्यक्रम के अंग रहे हैं। गणित, विशेषकर आधारभूत संख्यांकन हमारे जीवन का अभिन्न अंग है और वह हमारे लिए उतना ही अपरिहार्य है, जितनी हमारे दिल की धड़कन। इस कारण आधारभूत संख्यांकन की जानकारी राज्य सेवा परीक्षा उत्तीर्ण कर प्रशासक की नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार के लिए अनिवार्य है। आँकड़ों के निर्वचन का वस्तुत: दिए गए आँकड़े का विश्लेषण करने, सार्थक निष्कषोर्ं पर पहुँचने और उपयुक्त निर्णय लेने की आपकी योग्यता का आकलन करना है। आँकड़ों की माँग इस तथ्य के कारण होती है कि किसी भी संगठन में उच्च पदों पर आसीन लोगों के पास प्रत्येक रिपोर्ट के विवरणों में जाने का समय नहीं होता, संगठित आँकड़ों की आवश्यकता भावी परिदृश्य के संबंध में वर्तमान स्थिति के वर्णन में उनकी उपयोगिता के कारण अनुभव की जाती है। आँकड़े विभिन्न घटनाओं जैसे कि विभिन्न क्षेत्रों में सरकारी खर्च, बजटीय विनिधान, प्रति व्यक्ति आय, जन्म दर, किसी महामारी के कारण मृत्यु-संख्या आदि के बीच संबंध प्रस्तुत कर सकते हैं। आँकड़ों का निर्वचन एक कला है, जिसमें आपको सिद्धहस्त होना चाहिए।
  • हिन्दी भाषा में बोधगम्यता कौशल खंड में हिन्दी में दिए गए बोधगम्यता आधारित प्रश्न पूछे जाएँगे। इस खंड का उद्देश्य उम्मीदवार की हिन्दी भाषा में गद्य को समझने की क्षमता का पता लगाना है। इस भाग में दिए गए लेखांशों को पढ़कर उचित निष्कर्ष पर पहुँचने की उम्मीदवार की अभिरुचि को परखा जाएगा। इसके साथ ही इस खंड में हिन्दी व्याकरण से जुड़े अनेक प्रश्न भी पूछे जा सकते हैं। इसलिए हिन्दी भाषा बोधगम्यता में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए उम्मीदवार में किसी प्रश्न-समस्या का नियमों के आधार पर समाधान करने के लिए दी गई आधारभूत जानकारी को समझने की योग्यता का होना जरूरी है। यदि उम्मीदवार निरंतर अभ्यास करे और हिन्दी भाषा के व्याकरण पर अपनी पकड़ मजबूत करे तो वह इस खंड में बहुत आसानी से अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है।

वे सभी प्रतियोगी जो आगामी मध्यप्रदेश राज्य सेवा परीक्षा के माध्यम से राज्य सेवा के प्रतिष्ठित पद पर चयनित होने का सपना संजो रहे हैं उन्हें चाहिए कि वे परिश्रम और आत्मविश्वास के संकल्प के साथ राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी करें। यदि पूरे मनोयोग से तैयारी करेंगे तो सफलता अवश्य ही मिलेगी। प्रथम प्रश्न पत्र (सामान्य अध्ध्यन) पर अधिक ध्यान केंद्रित करें !! सभी प्यारे भाई बहनों को  नितिन गुप्ता  की तरफ से प्रारंभिक परीक्षा के लिये शुभकामनाऐं !!  किसी भी तरह की जानकारी हेतु आप मुझे संपर्क कर सकते है !!

 जरूर पढें –  

दोस्तो आप मुझे ( नितिन गुप्ता ) को Facebook पर Follow कर सकते है ! दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

दोस्तो कोचिंग संस्थान के बिना अपने दम पर Self Studies करें और महत्वपूर्ण पुस्तको का अध्ययन करें , हम आपको Civil Services के लिये महत्वपूर्ण पुस्तकों की सुची उपलब्ध करा रहे है –

TAG – MP PSC , MP PSC Exam , MPPSC Details , MPPSC Papers , How to Prepare For MPPSC , Smart Strategy for MPPSC Exam Preparation , MPPSC Notification , MPPSC PDF Notes , Free Download MPPSC Notes in Hindi PDF , MPPSC GK Notes in Hindi PDF , MPPSC Handwritten Notes , Free Download MPPSC Notes in Hindi PDF

About the author

Nitin Gupta

GK Trick by Nitin Gupta पर आपका स्वागत है !! अपने बारे में लिखना सबसे मुश्किल काम है ! में इस विश्व के जीवन मंच पर एक अदना सा और संवेदनशीलकिरदार हूँ जो अपनी भूमिका न्यायपूर्वक और मन लगाकर निभाने का प्रयत्न कर रहा हूं !! आप मुझे GKTrickbyNitinGupta का Founder कह सकते है !
मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने बाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है !! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कट अभिलाषा है !!

2 Comments

Leave a Comment